Kabir

बड़ा हुआ तो क्या हुआ

कबीर का दोहा

बड़ा हुआ तो क्या हुआ, जैसे पेड़ खजूर |
पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर ||

खजूर के पेड़ के भाँति बड़े होने का कोई फायदा नहीं है, क्योंकि इससे न तो यात्रियों को छाया मिलती है, न इसके फल आसानी से तोड़े जा सकते हैं | आर्थात बड़प्पन के प्रदर्शन मात्र से किसी का लाभ नहीं होता |

Bada hua to kya hua, jaise ped khajoor
Panthi ko chhaaya nahi, phal laage ati door.

It’s of no use to be great like a date palm tree as it neither gives shade to travelers nor does it allow its fruit to be plucked with ease. In other words, exhibition of greatness does not benefit anyone.

Advertisements
Standard

4 thoughts on “बड़ा हुआ तो क्या हुआ

  1. यह ब्लॉग एक प्रशंसनीय व रुचिदार कार्य है । मैं अपने हिंदी पढ़नेवाले छात्रों इसको पढ़ने का आदेश दूंगा ।

  2. Keerti says:

    बड़ा है तो देता है, थके यात्री को दूर से ही आस
    तपते रेगिस्तान में जल समेटे, बुझाता है सब की प्यास

  3. I see you don’t monetize your page, don’t waste your traffic, you can earn extra
    bucks every month because you’ve got high quality content.
    If you want to know how to make extra money, search for:
    best adsense alternative Wrastain’s tools

कुछ कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s