Rahim

साधु सराहै साधुता

रहीम क दोहा

साधु सराहै साधुता, जती जोखिता जान |
रहिमन साँचे सूर को, बैरी करे बखान ||

सज्जन लोग सज्जनता की प्रशंसा करते हैं, योगी-संन्यासी लोग ध्यान-समाधि आदि की प्रशंसा करते हैं; लेकिन सच्चे शूरवीर की तो विपक्षी शत्रु भी प्रशंसा करते हैं |

Standard

कुछ कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s