Kabir

काल करे सो आज कर

कबीर का दोहा

काल करे सो आज कर, आज करै सो अब |
पल में परलय होयगी, बहुरी करेगा कब ||

कल के सारे काम आज कर लो, और आज के अभी, क्योंकि समय का कोई भरोसा नहीं, पता नहीं कब प्रलय हो जाये | इसलिये शुभ काम को कल पर मत टालो, फौरन कर डालो |

Standard

कुछ कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s