Kabir

लूटि सके तो लूटि ले

कबीर का दोहा

लूटि सके तो लूटि ले, राम नाम की लूट |
फिर पीछे पछताहुगे, प्राण जाहिंगे छूट ||

राम नाम के ख़ज़ाने को कोई भी लूट सकता है, अभी समय है | लेकिन जीवन समाप्त होने पर सिवाय पछतावे के कुछ हाथ नहीं लगेगा, इसलिये जल्दी करें |

Standard

कुछ कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s